🕷️Web Crawling क्या है कैसे काम करता है – Full Guide

web crawling kya hai

🙏 नमस्कार दोस्तों, आज हम जानने वाले है web crawling के बारे में कि web crawling क्या है? कैसे काम करती है – Full Guide

नीचे पढ़े पूरी जानकारी 🤠👇

आजकल जो New blogger है उनको यह जरूर पता होना चाहिए कि क्रॉलिंग क्या है इसके उद्देस्य क्या है. अगर आप अपने ब्लॉग पर आर्टिकल लिखते है लेकिन क्या आपको पता है कि blog post इंडेक्स के पीछे क्या process होता है

आज हम उसी web crawling के बारे में स्टेप बय स्टेप डिसकस करेंगे कृपा पोस्ट को लास्ट तक पढ़े 👇

Crawling शब्द का मतलब क्या है?

  • “क्रॉलिंग” का मतलब होता है कि किसी website या web page के कंटेंट को ऑटोमेटेड तरीके से स्कैन करना।

इस प्रोसेस में एक Bot या Crawler सॉफ्टवेयर वेबसाइट के पेजों को विजिट करता है और उनके कंटेंट को समझने की कोशिश करता है। ये प्रोसेस सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO), data mining, और Web Scraping जैसी गतिविधियां के लिए इस्तमाल किया जाता है।

Crawling के दौरान, Bot वेब पेज के links को फॉलो करता है और उन्हें index करता है, जिस सर्च इंजन के लिए वो searchable हो जाए।

Web Crawler कौन होते है

वेब क्रॉलर एक software होता है जो इंटरनेट पर उपलब्ध सभी web page को स्कैन करता है। इसे वेब स्पाइडर, वेब रोबोट, बॉट, वेब एजेंट या वेब ब्राउज़र भी कहा जाता है।

Web crawler वेबसाइट के सभी पेजों को स्कैन करता है और यहाँ तक ​​कि उनमें शामिल content, image, video और अन्य फ़ाइलों को भी स्कैन करता है। यह content को store करता है और users के लिए उपलब्ध करवाता है।

Web Crawling का इतिहास (History of Web Crawling in Hindi)

Web Crawling का इतिहास बहुत लम्बा है। पहले web crawling केवल search engine के लिए होता था। वर्ष 1993 में, मैट इनगर्सोल (Matt Ingersoll) ने पहला वेब क्रॉलर बनाया था जिसेWorld Wide Web Wanderer के नाम से जाना जाता है।

इसके बाद एक से बढ़कर एक वेब क्रॉलर बनाए गए जो search engine के लिए जानकारी को संग्रहित करते हुए उनकी database को अपडेट करते थे।

आजकल web crawler विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं।

उदाहरण के लिए, वेब क्रॉलर न्यूज़ साइटों के लिए आर्टिकल्स ढूँढते हैं, या ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए products और prices की जानकारी ढूँढते हैं। इसके अलावा, समाज सेवा विभाग या स्वास्थ्य संस्थानों जैसी संस्थाओं के लिए भी वेब क्रॉलर उपयोगी होते हैं जो उनके वेबसाइट पर स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी ढूँढते हैं।

Crawling का यूज़ कहाँ होता है?

“क्रॉलिंग” का इस्तेमाल वेब सर्च इंजन जैसे Google, Bing, Yahoo आदि द्वारा web pages को कलेक्ट करने के लिए होता है।

क्रॉलिंग एक Automatic process होता है जैसे सर्च इंजन Bots (या “Spiders”) 🕷️ वेब पेज को विजिट करते हैं और उनकी कंटेंट और Metatag (जैसे कि पेज टाइटल, डिस्क्रिप्शन, यूआरएल आदि) को कलेक्ट करते हैं।

क्रॉलिंग Search Engine के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके बिना सर्च इंजन Page को index नहीं कर सकते और यूजर्स के प्रश्नों के लिए related result दिखाते हैं

Crawling के लिए Search engine bots को Website Owners की परमिशन की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि ये public information का कलेक्शन है।

Web Crawling क्या है (What is Crawling in Hindi)

Web Crawling एक आटोमेटिक प्रोसेस है, जिसमे web crawler या spider 🕷️ वेब पेज को स्कैन करते हैं और उनकी जानकारी को index करते हैं। Web Crawling सर्च इंजन और दूसरे वेबसाइटों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसे उन्होंने latest और accurate information प्रदान किया है

  • Web Crawling का मुख्य लक्ष्य है, Web pages को व्यवस्थित रूप से एक्सप्लोर करना और उनकी डेटा को कलेक्ट करना है।

Web crawler वेब पेज के link को फॉलो करते हैं और उनकी Content को extract करते हैं, जैसे सर्च इंजन उन्हें index कर यूजर्स को related result मुहैया कराते हैं।

Web Crawling का यूज़ search engine के अलावा भी कई दूसरे Application में किया जाता है, जैसे की 👇👇

  1. Price Comparison Website
  2. Content Aggregator
  3. Research Tools

Web Crawling क्यों जरुरी है

Web Crawling बहुत जरूरी है क्योँकि इससे web pages के content कलेक्ट किया जा सकता है और उसे search engine या दूसरे application के लिए index किया जा सकता है।

  • Web Crawling की मदद से search engine यूजर्स को related result प्रदान कर सकते हैं और उन्हें सही जानकारी मिल सकती है।

Web Crawling के अलावा और एप्लिकेशन भी होते हैं जिनहे web data का उपयोग करना होता है। जैसे की Prices की तुलना करने वाली वेबसाइटें, जो Online shopping में Prices तुलना करने के लिए web data का इस्तेमाल करते हैं।

Content Aggregators भी Web Crawling का इस्तेमाल करते हैं, जिस से वो multiple source से कंटेंट कलेक्ट कर सकें और अपने प्लेटफॉर्म पर ‘Publish’ कर सकें।

Web Crawling से नए बिजनेस और अवसर भी पैदा हो सकते हैं। जैसे कि एक बिजनेस ओनर अपने competitor के वेबसाइट्स को क्रॉल करके उनके offer और pricing को ट्रैक कर सकता है, और उसके हिसाब से अपने offer और pricing को अपडेट कर सकता है।

Web Crawling काम कैसे करता है

Web Crawling एक automatic process है जिसमे web crawler या स्पाइडर वेब पेज को systematic रूप से स्कैन करते हैं और उनकी जानकारी को कलेक्ट करते हैं।

Web Crawling के कुछ महत्वपूर्ण स्टेप्स हैं: 👇

🕷️1. URL Discovery: Web crawler पहले एक Seed URL से स्टार्ट करता है, जिसे वो अपने Database में स्टोर करता है। फिर वो seed url से related यूआरएल को खोजता है, जिसे वो अपना Database में स्टोर करता है।

🕷️2. URL Queuing: Discover किए गए यूआरएल को web crawler एक क्यू में स्टोर करता है, जिसे वो एक-एक करके विजिट करता है।

🕷️3. Page Downloading: Web crawler विज़िट किए URL को डाउनलोड करता है और उनकी HTML कोड को pass करता है।

🕷️4. Data Extraction: Web crawler HTML code में डेटा एक्सट्रेक्ट करता है जैसे कि टेक्स्ट, इमेज, लिंक्स और मेटाडेटा।

🕷️5. URL Filtering: Web crawler कुछ URL को फ़िल्टर करता है जैसे कि Duplicate URL, Irrelevant URL, और पहले से देखे गए URL

🕷️6. Storing Data: Web crawler डेटा को अपने database में स्टोर करता है जिसे सर्च इंजन और दूसरे एप्लिकेशन उसका इस्तेमाल कर सकें।

Web Crawling के लिए कुछ महत्वपूर्ण Factor हैं जैसे कि 👇

  • Web Crawler Speed
  • Efficiency
  • Politeness

Web crawler को robots.txt फाइल के अनुसर व्यवहार करना चाहिए ताकि वो वेबसाइट के guidelines को फॉलो कर सकें और उससे overload ना हो सके

Web Crawling का यूज़ कहाँ- कहाँ किया जाता है?

वेब क्रॉलिंग का यूज़ तीन जगह किया जाता है जैसे:

  1. Search Engines के लिए
  2. Business के लिए
  3. Researchers के लिए

1. Search Engines के लिए वेब क्रॉलिंग का यूज़ 

Search engines जैसे Google, Yahoo, Bing आदि, Web Crawling का इस्तेमाल करते हैं, ताकि इंटरनेट पर उपलब्ध कंटेंट को index कर सकें।

Web Crawling सर्च इंजन को नए और updated content के बारे में जानकारी देता है, जो सर्च इंजन रैंकिंग और सर्च रिजल्ट की क्वालिटी में एक महत्वपूर्ण फैक्टर है।

क्रॉलिंग प्रोसेस के बाद, सर्च इंजन index page को एनालाइज करता है और उन्हें कीवर्ड्स, टॉपिक, कंटेंट क्वालिटी आदि के हिसाब से रैंक करता है।

Web Crawling का यूज search engine के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि इंटरनेट के content का वॉल्यूम बहुत बड़ा है और मैनुअल तरीके से पेज को स्कैन करना लगभग असंभव है।

क्रॉलिंग ऑटोमेटेड तारिके से कंटेंट के लिए search engine के लिए एक कुशल तरीका है, जैसे सर्च रिजल्ट सटीक और अप-टू-डेट रहते हैं।

2. Business के लिए वेब क्रॉलिंग का यूज़ 

वेब क्रॉलिंग का उपयोग business के लिए बहुत सारे तारिके से किया जा सकता है जैसे 👇

  • बिजनेस वेब क्रॉलिंग का उपयोग करके
  • अपने प्रतियोगी
  • Market Trends
  • मूल्य निर्धारण
  • ग्राहकों की प्रतिक्रिया और Product के बारे में जानकरी प्राप्त कर सकते हैं।

Business के लिए वेब क्रॉलिंग के कुछ उपयोग उदाहरण हैं: 👇

#1. कॉम्पिटिटिव इंटेलिजेंस: Web Crawling का इस्तेमाल करके बिजनेस अपने competitors के Products, pricing, promotions, और marketing strategy के बारे में जानकरी प्राप्त कर सकते हैं। इसे उन्हें अपने products और services की स्थिति और मूल्य निर्धारण की रणनीति तय करने में मदद मिलेगी।

#2. मार्केट रिसर्च: Web Crawling का इस्तेमाल करके बिजनेस market trend और customer behavior के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसे उन्होंने अपने products और services की मांग और ग्राहकों की जरूरतों को समझने में मदद मिलती है।

#3. ब्रांड मॉनिटरिंग: Web Crawling का इस्तेमाल करके बिजनेस अपने ब्रांड के बारे में Online Mentions और Reviews के बारे में ट्रैक कर सकते हैं। इसे उन्हें अपनी ऑनलाइन प्रतिष्ठा को monitor और maintain करने में मदद मिलती है।

#4. Product विकास: Web Crawling का उपयोग करके business से related industries के products और services के फीचर्स, ग्राहकों की प्रतिक्रिया, और reviews के बारे में जानकरी प्राप्त कर सकते हैं। इससे उन्हें अपने products और services में सुधार करने में मदद मिलती है।

#5. लीड जनरेशन: Web Crawling का इस्तेमाल करके बिज़नेस के potential customers के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसे अपने products और services के लिए योग्य लीड्स को पहचानने में मदद मिलती है।

Web Crawling का उपयोग business के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि इससे उन्हें industry trends, competition, और ग्राहक की जरूरतों को समझने में मदद मिलती है, और उन्हें अपनी व्यापार रणनीति और निर्णय लेने की प्रक्रिया में सुधार करने में मदद मिलती है

3. Researchers के लिए वेब क्रॉलिंग का यूज़ 

Web Crawling का उपयोग researchers के लिए बहुत सारे तारिके से किया जा सकता है। Web Crawling से Researcher ऑनलाइन उपलब्ध डेटा को कलेक्ट कर सकते हैं और Analysis कर सकते हैं, और इसे अपने रिसर्च के लिए relevant और अप-टू-डेट डेटा प्राप्त करने में मदद मिलती है।

Researchers के लिए Web Crawling के कुछ उपयोग मामले हैं: 👇✅

#1. Data Repository: Web Crawling का उपयोग करके Researcher बड़े dataset को एकत्र कर सकते हैं, जिसे अपने research के लिए relevant और व्यापक डेटा प्राप्त करने में मदद मिलती है।

#2. Text Mining: Web Crawling का इस्तेमाल करके रिसर्चर ऑनलाइन उपलब्ध text data को कलेक्ट करके उनका Analysis कर सकते हैं। इसे उन्हें इनसाइट्स और पैटर्न के बारे में जानकरी प्राप्त करने में मदद मिलती है।

#3. Social Media Analysis: Web Crawling का इस्तेमाल करके रिसर्चर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से data कलेक्ट कर सकते हैं। इसे उन्होंने सोशल मीडिया ट्रेंड्स, यूजर बिहेवियर और सेंटीमेंट एनालिसिस के बारे में जानकरी प्राप्त करने में मदद मिलती है।

#4. Topic Modeling: Web Crawling का उपयोग करके researcher विशिष्ट विषय से संबंधित ऑनलाइन उपलब्ध data को एकत्र करके उनका Analysis कर सकते हैं। इससे उन्हें विशिष्ट विषयों से Related Patterns और Insights के बारे में जानकरी प्राप्त करने में मदद मिलती है।

#5. Network Analysis: Web Crawling का उपयोग करके researcher ऑनलाइन उपलब्ध network data को इकट्ठा कर सकते हैं, जैसे कि social networks, e-commerce websites, और online communities.

इसे उन्हें network structure और relationships के बारे में जानकरी प्राप्त करने में मदद मिलती है।

Web Crawling का उपयोग researcher के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि इसे अपने अनुसंधान के लिए relevant और up-to-date डेटा प्राप्त करने में मदद मिलती है। इससे उन्हें अपने reserch के result में सुधार करने में मदद मिलती है।

Web Crawling के फायदे और नुकसान 

“क्रॉलिंग” का मतलब होता है कि एक वेबसाइट या वेबपेज को search engine bots के थ्रू स्कैन किया जाए।

क्रॉलिंग के कुछ फायदे और नुक्सान नीचे दिए गए हैं: 👇

🟢 फ़ायदे (Pros)

#1. एसईओ में मदद: क्रॉलिंग की मदद से search engine bots आपके वेबसाइट के पेजों को index करते हैं। अगर आपके वेबसाइट का content अच्छा है और प्रॉपर कीवर्ड्स का इस्तेमाल किया है तो क्रॉलिंग आपके वेबसाइट की विजिबिलिटी और सर्च इंजन रैंकिंग को बढ़ा सकता है।

#2. ब्रोकन लिंक्स की पहचान: क्रॉलिंग की मदद से आपके वेबसाइट के ब्रोकन लिंक्स और पेजों को पहचान कर आप उन्हें Fix कर सकते हैं, ताकि आपके यूजर्स को Seamless Experience मिले

#3. वेबसाइट प्रदर्शन में सुधार: क्रॉलिंग की मदद से आप पता लगा सकते हैं कि आपके वेबसाइट के page कितने समय में लोड हो रहे हैं, और आपको ये भी पता चल सकता है कि आपके वेबसाइट के page किस टाइप के डिवाइस पर ज्यादा access हो रहे हैं।

🔴 नुक्सान (Cons)

#1. सुरक्षा खतरे: क्रॉलिंग की मदद से वेबसाइट के पेजों को unauthorized third party तक पहुंचने का जोखिम हो सकता है, जो वेबसाइट के सुरक्षा को नुक्सान पहुंच सकता है।

#2. संसाधन गहन: क्रॉलिंग की प्रक्रिया संसाधन गहन होती है, इसे अगर आपके वेबसाइट पर बहुत सारे पेज हैं, तो क्रॉलिंग प्रक्रिया को पूरा करना बहुत समय लेने वाला हो सकता है।

#3. डुप्लीकेट कंटेंट: क्रॉलिंग की वजह से सर्च इंजन बॉट्स duplicate content की प्रॉब्लम को भी create कर सकते हैं, इसे आपको आपके वेबसाइट पर duplicate content की मॉनिटरिंग करनी चाहिए।

Crawling Tools के लिए Best Web Crawling Tools की लिस्ट

Web Crawling टूल्स, Web Scraping का इस्तेमाल करके वेबसाइट्स से डेटा कलेक्ट करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

कुछ बेस्ट Web Crawling टूल्स की लिस्ट हिंदी में दी जा रही है: 👇✅

Scrapy स्क्रेपी एक ओपन सोर्स Web Crawling टूल है जो Python से बनाया गया है। इसका उपयोग high-level API के माध्यम से किया जाता है और डेटा का निष्कर्षण और क्रॉलिंग आसन हो जाता है।

Beautiful Soup – ब्यूटीफुल सूप भी Python से बनाया गया है इसका उपयोग websites से data का एक्सट्रैक्शन करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस टूल के इस्तेमाल से HTML और XML files को पास करना आसान हो जाता है।

Apify एपिफाई एक क्लाउड-बेस्ड Web Scraping टूल है जो डेटा एक्सट्रैक्शन के साथ-साथ डेटा ट्रांसफॉर्मेशन और ऑटोमेशन भी देता है। इसका यूज Node.js प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ किया जाता है।

Octoparse – ऑक्टोपर्से एक विजुअल Web Scraping टूल है जो नॉन-प्रोग्रामर्स के लिए भी आसान है। इसका उपयोग सरल drag-and-drop interface के माध्यम से किया जाता है और कई वेबसाइटों से data का निष्कर्षण कर सकते हैं।

ParseHub ParseHub एक Web Scraping टूल है जो data extraction के लिए इस्तेमाल किया जाता है। क्या टूल के इस्तेमाल से साथ-साथ Data Cleaning और Formatting भी आसान हो जाता है। इसका यूज non-programmer के लिए भी आसान है।

Webharvy वेबहार्वी एक विजुअल Web Scraping टूल है जो data का निष्कर्षण आसान बनाता है। इस टूल के इस्तेमाल से कई वेबसाइट्स से data निकाला जा सकता है।

ये कुछ लोकप्रिय Web Crawling टूल है जो डेटा एक्सट्रैक्शन और क्रॉलिंग के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं

Web Scraping क्या है? (What is Web Scraping in Hindi)

Web Scraping एक ऐसी Technique है जिसमे एक कंप्यूटर प्रोग्राम का इस्तेमाल किया जाता है Webpage से डेटा एक्सट्रेक्ट करने के लिए।

ये प्रोसेस है जिसमे computer program web pages के एचटीएमएल, सीएसएस, जावास्क्रिप्ट, और अन्य मार्कअप लैंग्वेज का इस्तेमाल करके उनके content को pass करता है और उनसे उपयोगी जानकारी को एक्सट्रेक्ट करता है।

Web Scraping के लिए कुछ लोकप्रिय टूल्स हैं जैसे python libraries BeautifulSoup और Scrapy, जो कि डेवलपर्स के लिए उपलब्ध है। Web Scraping का उपयोग अक्सर डेटा एनालिटिक्स, डेटा माइनिंग, रिसर्च, और ऑटोमेशन के लिए किया जाता है।

Web Scraping के बाद जो data आता है, उससे आगे की प्रोसेसिंग और एनालिसिस करके Insights और Predictions निकाले जाते हैं।

Web Scraping कानूनी उपयोग के मामलों में काफी मददगार हैं लेकिन इसका दुरुपयोग भी हो सकता है जैसे कि Sensitive Data को कलेक्ट करना, वेबसाइट का ओवरलोड करना, अनधिकृत एक्सेस आदि।

Web Scraping का यूज़ कैसे किया जाता है?

Web Scraping का उपयोग काई तरह के एप्लीकेशन में किया जाता है, जैसे: 👇

#1. डाटा माइनिंग: Web Scraping का यूज data mining के लिए किया जाता है, जिस्मे large amount of data को एक्सट्रेक्ट किया जाता है। इसके बाद data को आगे की प्रक्रिया किया जाता है और उपयोगी जानकारी निकाली जा सके.

#2. ई-कॉमर्स: ई-कॉमर्स कंपनियां अपने competitors की prices और product listing को Web Scraping के जरिए मॉनिटर करते हैं। इससे वो अपने prices को अपडेट करते हैं और अपने customer के लिए competitive price offer करते हैं।

#3. लीड जनरेशन: कंपनियां अपने potential customers का डेटा Web Scraping के जरिए एक्सट्रेक्ट कर सकती हैं। इस डेटा का इस्तेमाल करके वो अपना marketing campaign को टारगेट कर सकता है और अपने बिजनेस को grow कर सकता है।

#4. रिसर्च: Web Scraping का यूज academic research के लिए भी किया जाता है। Researcher अपने research के लिए इंटरनेट से data extract करते हैं और इस डेटा को आगे एनालिसिस करके अपने रिसर्च को मान्यता देते हैं।

#5. मॉनिटरिंग: Web Scraping का यूज वेबसाइट और सोशल मीडिया मॉनिटरिंग के लिए भी किया जाता है। कंपनियां अपनी online reputation को मॉनिटर करने के लिए अपने ब्रांड से Related Content और Mentions को Web Scraping के थ्रू ट्रैक करते हैं।

Web Scraping का उपयोग काई और एप्लिकेशन में भी किया जाता है। लेकिन जैसा कि मैंने पहले भी कहा, इसका उपयोग कानूनी और नैतिक तरीकों में किया जाना चाहिए।

Web Crawling और Web Scraping के Legal और Ethical issues

Web Crawling और Web Scraping के कानूनी और नैतिक मुद्दे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। यहां कुछ महत्वपूर्ण बिंदु हैं जो इस पर फोकस करते हैं: 👇

🚫 नियम और शर्तें: हर वेबसाइट के नियम और शर्तें होती हैं, जिस्मे बताया जाता है कि इस वेबसाइट का content और data कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर कोई Web Scraping या Web Crawling प्रक्रिया नियम और शर्तों के खिलाफ है तो वो अवैध है। इसलिए, Web Scraping और Web Crawling करने से पहले नियम और शर्तों में ध्यान से पढ़ा जाना चाहिए।

🚫 कॉपीराइट: वेबसाइट के मालिकों का data और content उनके बौद्धिक संपदा है और उनके परमिशन के बिना इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। Web Scraping या Web Crawling करने से पहले वेबसाइट के मालिकों की अनुमति लेना जरूरी है।

🚫 Sensitive Data: Sensitive data जैसे कि login credentials, payment information, personal information,आदि Web Scraping या Web Crawling करने से पहले सावधानी से संभालना चाहिए। इस डेटा का गलत इस्तेमाल अवैध और अनैतिक है।

🚫 ओवरलोड: Web Scraping या Web Crawling प्रक्रिया से वेबसाइट को overload नहीं किया जा सकता है। इससे वेबसाइट की functionality और users experience पर बुरा असर पड़ता है।

🚫 डेटा मिसयूज: Web Scraping या Web Crawling के जरिए कलेक्ट किया गया data का गलत इस्तेमाल और शेयर करना गैरकानूनी और अनैतिक है। इसलिए, Web Scraping और Web Crawling प्रक्रिया को कानूनी और नैतिक तरीकों में ही उपयोग किया जाना चाहिए।

सभी कानूनी और नैतिक मुद्दों को ध्यान में रखकर, Web Scraping और Web Crawling प्रक्रिया को करना चाहिए। अगर कोई कानूनी या नैतिक मुद्दा आता है, तो उसका समाधान करने के लिए सही तारिके से एक्शन लेना चाहिए।

Copyright Laws और Scraping Restrictions

Copyright Laws और Scraping Restriction वेबसाइट मालिकों को उनके वेबसाइट के कंटेंट और डेटा की ओनरशिप प्रदान करता है। कॉपीराइट कानूनों के अनुसार, वेबसाइट के मालिकों की अनुमति के बिना उनके कंटेंट और डेटा को कॉपी या डिस्ट्रीब्यूट करना अवैध है।

इसके अलावा, कुछ वेबसाइट्स robots.txt फाइल का इस्तेमाल करते हैं, जिसमे बताया जाता है कि किस डेटा और कंटेंट को Web Scraping या Web Crawling प्रोसेस से access किया जा सकता है और किस डेटा को नहीं। अगर robots.txt फ़ाइल में कोई प्रतिबंध है, तो उसके खिलाफ Web Scraping या Web Crawling प्रक्रिया करने से पहले अनुमति लेनी चाहिए।

इसके अलावा, कुछ देशों और राज्यों में विशिष्ट कानून होते हैं जो Web Scraping और Web Crawling प्रक्रिया के लिए प्रतिबंध प्रदान करते हैं। इसलिए, Web Scraping या Web Crawling करने से पहले हमें देश या राज्य के कानूनों को भी चेक करना चाहिए।

कुल मिलाकर, Web Scraping और Web Crawling प्रक्रिया कानूनी और नैतिक तरीकों में किया जाना चाहिए और वेबसाइट के मालिकों की अनुमति और प्रतिबंधों को सम्मान किया जाना चाहिए। अगर कोई कानूनी या नैतिक मुद्दा आता है, तो उसका समाधान करने के लिए सही तारिके से action लेना चाहिए।

Conclusion

तो दोस्तों, आज कि यह पोस्ट Web Crawling क्या होती है आपको कैसी लगी. इस ब्लॉग पोस्ट में हमने web crawling के हर factor को cover करने की कोसिस की है

इसमें हमने web crawling और web scraping क्या है और इसके फायदे और नुकसान है हर चीज की जानकारी डिटेल में दी है

अगर आपको इसे पोस्ट से लेकर कोई सवाल या सुझाव है तो हमें comment box में जरूर बताये

दोस्तों, अगर आप भी blogging सीखना चाहते है और online पैसे कामना चाहते है तो हमें सब्सक्राइब कर सकते है. इस ब्लॉग पर हम blogging, internet और make money से related article डेली बेसिस पर publish करते रहते है

इस पोस्ट को अपने दोस्तों में भी जरूर शेयर करे जिसको नहीं पता कि web crawling क्या है? और ये कैसे work करती है

पोस्ट को लास्ट तक पढ़ने के लिए thanks!

पोस्ट Rating देना न भूले 🙏🙏

About The Author

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top